Home कविताएं धार्मिक कविताएँ असंभव को संभव बना

असंभव को संभव बना

0 second read
0
0
1,315

‘तू   असम्भव    को    सम्भव ‘   व    ‘ सम्भव     को    असम्भव     मानता     है ‘ ,

‘एकाग्र   चित्त   से’  ‘ प्रभु   याद   करना ‘  ‘सम्भव    है’  , ‘असम्भव    क्यों   बता ‘ ?

‘कामकाओं    मे’   ‘स्थायी    सुख   असम्भव    है ‘ , ‘ तू    सम्भव    मानता     है’ ,

‘तुम्हारी     विचार धारा    मे’  ‘ कोई   प्रवाह   नहीं’ , ‘गोते  खाकर   डूब   जाएगा ‘  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In धार्मिक कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…