अशोभनीय व्यवहार

2 second read
0
0
1,125

‘शालीनता  की सीमा’ ‘ पार  करने वाले मज़ाक’, ‘दरार  डाल  देते हैं’ ,

‘द्रोपड़ी’ ‘,दुर्योधन को“अंधे का पुत्र“‘नहीं कहती’ ‘,महाभारत घटित नहीं होता’ ,

‘मर्यादा  न  रहे’  तो ‘रिस्तों   का अस्तित्व’ ‘ डांवाडोल  हो  जाएगा’ ,

‘हमारा अशोभनीय  व्यवहार’ ‘संवरना चाहिए’‘,रिस्तों का महत्व  पहचानो’ |-

 

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…