Home कविताएं धार्मिक कविताएँ अल्लाह ‘ और ‘ भगवान ‘मे ‘फर्क’‘पुजा या इबाबत से’‘पैदा नहीं होता

अल्लाह ‘ और ‘ भगवान ‘मे ‘फर्क’‘पुजा या इबाबत से’‘पैदा नहीं होता

0 second read
0
0
1,155

‘अल्लाह ‘ और ‘ भगवान ‘मे ‘फर्क’‘पुजा या इबाबत से’‘पैदा नहीं होता ‘,
‘इंसानियत का रंग ‘ ही ‘सभी मजहबों मे’ – ‘खुदा का रंग होता है’ ,
‘भगवा’ या ‘हरा रंग ‘ हो, ‘इंसानियत का नूर’ ‘ टपकता है हर जगह’ ,
‘इसकी मिट्टी की सुगंध में ‘, ‘सभी एकरस हो गए हैं ‘ –‘देखिये ‘ | | |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In धार्मिक कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…