Home कहानी दोस्ती की कहानी अब मेरे दोस्त थकने लगे हैं

अब मेरे दोस्त थकने लगे हैं

0 second read
0
1
1,148

साथ  साथ  जो  खेले  थे  बचपन  में , वो  सब  दोस्त  अब  थकने  लगे  है ,
किसी   का   पेट   निकल   आया   है  , किसी   के   बाल   पकने   लगे   है ,

सब  पर  भारी  ज़िम्मेदारी   है  , सबको   छोटी   मोटी   कोई   बीमारी   है ,
दिन  भर  जो  भागते  दौड़ते  थे , वो  अब  चलते  चलते  भी  रुकने  लगे  है ,
 उफ़   क्या   क़यामत    हैं  , सब   दोस्त   थकने   लगे   है ,

किसी   को   लोन   की   फ़िक्र   है   , कहीं   हेल्थ   टेस्ट   का   ज़िक्र  है ,

फुर्सत   की   सब   को   कमी   है  , आँखों   में   अजीब   सी    नमीं   है ,

कल  जो  प्यार  के  ख़त  लिखते  थे, आज  बीमे  के  फार्म  भरने  में  लगे  है ,उफ़

  क्या   क़यामत   हैं  ,  सब   दोस्त   थकने   लगे   है  |

देख   कर   पुरानी   तस्वीरें  , आज   जी   भर   आता   है ,

क्या  अजीब  शै  है  ये  वक़्त  भी   ,किस  तरह   ये  गुज़र  जाता  है ,
कल   का   जवान   दोस्त   मेरा ,  आज   अधेड़    नज़र   आता   है  ,

कल  के  ख़्वाब  सजाते  थे  जो  कभी ,  आज  गुज़रे  दिनों  में  खोने  लगे  हैं ,
उफ़   क्या   क़यामत   हैं   सब   दोस्त   थकने   लगे   हैं ।

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In दोस्ती की कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…