Home ज़रा सोचो ‘अपने उद्देश्य के लिए’ ‘समर्पित रहो’ , ‘प्रसन्नता के लिए पीछे’

‘अपने उद्देश्य के लिए’ ‘समर्पित रहो’ , ‘प्रसन्नता के लिए पीछे’

0 second read
0
0
1,262

‘अपने उद्देश्य के लिए’ ‘समर्पित रहो’ , ‘प्रसन्नता के लिए पीछे’ ,
‘अगर अपना टारगेट छू लिया’ ,’प्रसन्नता खुद’ ‘दौड़ी चली आएगी’ ,
‘गोल करने मे चूक गए तो’ ‘उचक-उचक कर नहीं नाच पाओगे’ ,
‘जीवन की दौड़ मे पिछड़ जाओगे’ ,’कोई नहीं पुछेगा कभी कुछ भी’ |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…