Home राजनीति “अपने अंदर मीरजाफ़र को मत पालो ,लालच बुरी बाला है “|

“अपने अंदर मीरजाफ़र को मत पालो ,लालच बुरी बाला है “|

10 second read
0
0
995

 

लालच  बुरी  चीज  है —  हमारा  इतिहास  गवाह  है  |

बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला के दरबार में उपस्थित होकर ईस्ट इंडिया कम्पनी का प्रतिनिधि राबर्ट क्लाईव बंगाल में ब्यापार करने की अनुमति मांग रहा था। सिराजुद्दौला ने साफ मना कर दिया। कहा, “मेरे नाना ने कहा है , सब पर विस्वास करना मगर अंग्रेजों पर मत करना, इसलिये आप बाहर जायें। क्लाईव ने युद्ध की धमकी दी, सिराजुद्दौला ने कहा, मुझे युद्ध करना मंजूर है लेकिन तुमको यहां ब्यापार करने की अनुमति नही दूँगा।

बंगाल के पूर्व नवाब अलीवर्दी खाँ को बेटा नही था , उन्हे सिर्फ बेटी थीं इसलिये उन्होने अपनी बेटी के पुत्र सिराजुद्दौला को अपना उत्तराधिकारी बनाया था। अलीवर्दी खाँ अंग्रेजों के बहुत खिलाफ थे और उन्हे कभी प्रश्रय नही दिये।

सिराजुद्दौला ने राबर्ट क्लाईव की चुनौती को स्वीकार किया और तय हुआ 23 जून 1757 को पलासी के मैदान में युद्ध होगा। ( पलासी , बंगाल की तत्कालीन राजधानी मूर्शीदाबाद से 22 की0मी0 दूर नदिया ज़िले में अवस्थित है।) सिराजुद्दौला ने अपने गुप्तचरों से पता कराया तो पता चला कि क्लाईव के पास मात्र 3050 ( 950 यूरोपियन और 2100 भारतीय ) सैनिक हैं। सिराजुद्दौला निश्चिंत हो गया कि उसके अठारह हजार सैनिक मिनटों में राबर्ट क्लाईव को मसल देंगे, इसलिये अति आत्मविस्वास में स्वयं नही जाकर अपने सेनापति मीर जाफर को भेज दिया।

पलासी के मैदांन में सिराजुद्दौला की विशाल फौज देखकर राबर्ट क्लाईव के हाँथ पाँव फूल गये, लेकिन क्लाईव जानता था कि अगर हिंदुस्तानियों को लालच दो तो वे अपनी मातृभूमि क्या , सात पुस्तों को भी बेच देंगे। उसने तुरंत मीरजाफर को संधि प्रस्ताव भेजा और उसे बंगाल और बिहार का नवाब बनाने का लालच दिया। मीरजाफर स्वार्थ में अंधा होकर क्लाईव के जाल में फंस गया और संधि हो गयी। कुछ लोग कहते हैँ कि पलासी में बड़ा भीषण युद्ध हुआ, वे गलत हैं, पलासी में कोई युद्ध नही हुआ सिर्फ संधि हुयी , और इस संधि के तहत अठारह हजार की फौज के साथ एक सेनापति तीन हजार की फौज के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।

प्रसिद्ध इतिहासकार पणिक्कर कहते हैं। पलासी का युद्ध वास्तव में कोई युद्ध नही था , यह एक षड्यंत्र और विश्वासघात का घिनौना प्रदर्शन था , लेकिन इसका स्थान विश्व के निर्णायक युद्धों में से एक है। क्योंकि इसी के द्वारा बंगाल से भारत में ब्रिटिश साम्राज्य की नींव डालने की शुरुआत हुयी और एक व्यापारिक संस्था ने राजनीतिक बागडोर अपने हांथो में ले ली।

अब राबर्ट क्लाईव अपनी डायरी में लिखता है, “जब मैंने मीरजाफर को संधि के जाल में फंसा लिया तो हमलोग मूर्शीदाबाद की ओर प्रस्थान किये, मैँ आगे घोड़े पर सवार मेरे पीछे मेरे 950 यूरोपियन सिपाही और उसके पीछे बीस हजार भारतीय फौज, हमलोग जब जा रहे थे तो सड़क के दोनोें किनारे खड़े भारतीय तालियां बजा रहे थे , अगर ये विरोध में एक एक पत्थर भी चला देते तो हम सभी मारे जाते।”

कहानी आगे भी है लेकिन मेरा उद्देश्य यही पूरा हो जाता है। इसलिये यहीं समाप्त करता हूँ। हमें लगता है कि हम सब कहीं न कहीं आज भी अपने अन्दर मीरजाफर को पाल कर रखे हुये हैं। पन्द्रह लाख का लालच मिला तो अपने लोभ पर बुद्धि , विवेक , ज्ञान और नैतिकता का आवरण चढ़ा कर कूदने लगे और उस सड़क किनारे खड़े होकर तालियां बजाने वालों के अनुसरण में हर भ्रष्टाचार , अपराध , कुकर्म और बेशर्मी पर खुश होकर तालियां बजा रहे हैं।

 
 

Like

 

Like

 

Love

 

Haha

 

Wow

 

Sad

 

Angry

Comment

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In राजनीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…