Home कविताएं प्रेरणादायक कविता अपना दृष्टिकोण सुधारो ,खुद को रास्ता दिखाओ !

अपना दृष्टिकोण सुधारो ,खुद को रास्ता दिखाओ !

1 second read
0
1
1,389

‘मनुष्य’ , ‘संसार  को  जीतना  चाहता  है’ , ‘खुद  पर  नियंत्रण  नहीं  कोई’ ,

‘हमेशा  दूसरों  की  गल्तियाँ  निकालते  हैं’ , ‘खुद  में  झाँकते  नहीं  कभी ‘,

‘दूसरों  के  साथ  अहंकार  में  उपस्थित  होते हैं ‘,’ क्रोध,जलन साथ देते हैं’ ,

‘खोखली  पद-प्रतिष्ठा’ , ‘झूठी  शान’ , ‘अनुभवों  की  कमी  दर्शाती   है  केवल’ ,

‘खुद  से सवाल पूछने ‘ और ‘जवाब  पाने  की ज़रूरत  है ‘.’वरना  पिछड़  जाओगे; 

‘अपना  दृष्टिकोण  सुधारो’ , ‘सही रास्ता चुनो ‘,’खुद को रास्ता दिखाना  सीखो  |

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…