Home धर्म अपना दास बना ले तू

अपना दास बना ले तू

0 second read
0
0
1,164

‘तेरी   कृपा   अगर   मिल   जाए ‘ ,  ‘भटकती   रूह   संभल   जाएगी ‘ ,

‘दया-धर्म   को   भूल   गया   हूँ ‘ , ‘ बीच   भँवर   में    लटका   हूँ ‘ ,

‘पाप    की    गठरी    बांधे    फिरता ‘ ,  ‘दुनिया   मे   भरमाया   हूँ ‘ ,

‘शांति    कोसों    दूर    खड़ी     है ‘  ,  ‘ मुह्न    लटकाए    बैठा    हूँ ‘ ,

‘ज़रा    मुझे    अपना    ले    तू ‘ ,  ‘अपना    दास    बना    ले    तू ‘,

‘दुनियाँ    ने    बहुत    रुलाया    है’ , ‘ चरणों    मे    बैठा    ले    तू ‘  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…