Home ज़रा सोचो ‘अंधविश्वास भगाओ , विज्ञान को आगे बढ़ाओ , जरा सोचो “!

‘अंधविश्वास भगाओ , विज्ञान को आगे बढ़ाओ , जरा सोचो “!

5 second read
0
0
1,465

अंधविश्वास भगाओ, विज्ञान लाओ*
*अब करो तर्क जिसे करना है:*🤔

इन्सान ने ही *भगवान का निर्माण किया है* इसके *तार्किक सबूत* निम्नलिखित है:👇

*1.* मनुष्य के अलावा दुनिया का एक भी प्राणी *भगवान को नहीं मानता* ।

*2.* *जहाँ इन्सान नहीं पहुँचा* वहाँ एक भी मंदिर मस्जिद या चर्च *नहीं* *मिला* ।

*3.* अलग-अलग जगहों पर *अलग-अलग देवता* है। इसका मतलब *इन्सान को जैसी कल्पना सूझी वैसा भगवान बनाया* ।

*4.* दुनिया में अनेक धर्म पंथ और उनके *अपने-अपने देवता* हैं। इसका अर्थ *भगवान भी एक नहीं*।

*5.* दिन प्रतिदिन *नये नये भगवान* तैयार हो रहे हैं।

*6.* अलग-अलग *प्रार्थनाएं* हैं।

*7.* ” *माना तो भगवान, नहीं तो पत्थर* “…यह कहावत ऐसे ही नहीं बनी।

*8.* दुनिया में *देवताओं के अलग-अलग आकार* और उनको *प्रसन्न करने की लिए अलग-अलग पूजा* ।

*9.* अभी तक *किसी इन्सान को भगवान मिलने के कोई प्रमाण नहीं* हैं।

*10.* भगवान को *मानने वाला और न मानने वाला* भी *समान जिंदगी जीता है*।

*11.* भगवान किसी का भी *भला* या *बुरा नहीं कर सकता* ।

*12.* भगवान *भ्रष्टाचार अन्याय, चोरी, बलात्कार आतंकवाद, अराजकता रोक नहीं सकता* ।

*13.* *छोटे मासूम बच्चों* पर बंदुक से *गोलियाॅ दागने* वालों के *हाथ भगवान नहीं पकड़ सकता* ।

*14.* *मंदिर मठ आश्रम* *प्रार्थना* *स्थल* जहाँ माना जाता है कि *भगवान का वास* होता है वहाँ भी *बच्चे महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं*।

*15.* *मंदिर मस्जिद चर्च को गिराते समय* एक भी *भगवान ने सामने आकर विरोध नहीं किया* ।

*16.* *बिना अभ्यास किये* एक भी छात्र को *भगवान ने पास किया हो* ऐसा एक भी उदाहरण *आज तक सुनने को नहीं मिला* ।

*17.* बहुत सारे भगवान ऐसे हैं जिनको *25 साल पहले कोई नही जानता था* । वह अब प्रख्यात भगवान हो गये। जैसे- *सांई बाबा* *, सत्य सांई* आदि।

*18.* खुद को *भगवान* समझने वाले *अब जेल की हवा खा रहे हैं* ।

*19.* दुनिया में करोडों लोग हैं *जो भगवान को नहीं मानते* फिर भी वह *सुख चैन से रह रहे हैं* ।

*20.* ●हिन्दू *अल्लाह* को नहीं मानते।
●मुस्लिम *भगवान* को नहीं मानते।
●इसाई *भगवान और अल्लाह* को नहीं मानते।
●हिन्दू मुस्लिम *गाॅड(christ)* को नहीं मानते।

फिर भी भगवानों ने *एक दुसरे को नहीं पूछा कि ऐसा क्यों* ?

*21.* ●एक धर्म कहता है कि *भगवान का आकार नहीं* ।

● दूसरा धर्म भगवान को *आकार देकर फैन्सी कपड़े पहनाता* है।

●तीसरा धर्म *अलग ही बताता है* । मतलब *सच क्या है* ?

*22.* भगवान है तो *लोगों में उसका डर क्यों नहीं* ?

*23.* *मांस भक्षण* करने वाला भी *जी* रहा है और *नहीं करने वाला* भी *जी* रहा है । और जो *दोनों खाता है* वह भी *जी* रहा है।

*24.* रूस, अमेरिका *भगवान को नहीं मानते* फिर भी वे *महासत्ता* हैं।

*25.* ●जब *ब्रह्मा* ने सृष्टि की रचना की तो फिर *चार वर्ण की व्यवस्था* सिर्फ *भारत में क्यों पाई जाती है* ? अन्य देशों में *क्यों नही पाई जाती है* ?

●जब *पिछले जन्म के कर्म* के आधार पर *जातियों का निर्माण* किया गया है तो *भारतीय जातियां* अन्य देशों में *क्यों नहीं पायी जाती है* ?

*26.* जब *वेद ईश्वर की वाणी है* तो भारत के अलावा *अन्य देशों में वेद क्यों नहीं हैं* ? तथा वेद सिर्फ *ब्राह्मणों की भाषा संस्कृत* में क्यों है अन्य भाषाओं जैसे *बंगाली, उड़िया, उर्दू, अंग्रेजी, मलयालम, तेलगू, फारसी,* आदि में *क्यों नहीं है* ?

*क्या आप सच्चाई के साथ हैं?* 💁🏻‍♂

🙋🏻🙋🏻‍♂🙋🏽‍♂🙋🏼🙋🏼‍♂🙋🙋🏼🙋🏻‍♂🙋🏼‍♂🙋🏻🙋🏽‍♂🙋🏻🙋🏻‍♂🙋🏽‍♂🙋🏼🙋🏼‍♂🙋🏻‍♂🙋🙋🏻🙋🏼🙋🏻‍♂🙋🏼‍♂🙋🏻🙋🏽‍♂🙋🏻🙋🙋🏼🙋🏽‍♂🙋🏻‍♂🙋🏻

*अन्धविश्वास  और  पाखंडवाद  को  मिटाने  में  सहयोग  करें*🙏

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…