Home सुविचार अंतिम इच्छा है मेरी

अंतिम इच्छा है मेरी

0 second read
0
0
1,198

‘बीमार बना कर मत मारो प्रभु ‘, ‘मैं उत्तम कार्य करके मरना चाहता हूँ ‘ ,

‘चांडाल चित्त’ , ‘व्यसनी होकर’ ‘सडने से बेहतर है’ ‘देश के काम आ जाऊ’ ,

‘कुविचारी’ , ‘कुसंस्कारी’ रहकर ‘मरने से बेहतर है’ ‘देश हित मे मर जाना ‘ ,

‘देश के लिए कुछ करता मरूँ ‘ , ‘बस यही अंतिम इच्छा है मेरी ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In सुविचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…